Golden Rules For Professional Life by Manonit Deep | Motivational Lessons


● Do your contribution or effort when company/organiztion needs your services most 
जरूरत के समय कम्पनी/संस्था का साथ दें , जब उसे आपके कार्य की जरूरत हो

● Don't criticize any management. 
किसी भी मैनेजमेंट की बुराई ना करें ।

● Share your positive thoughts with employees,helpers or company/organisation.
आपके मन मे जो भी विचार आएं वो अपने सीनियर/कम्पनी/संस्था के साथ साझा जरूर करें ।

● Keep update yourself regularly. 
हमेशा ज्यादा अपडेट रहें




You can achieve success if you believe in team work and keep your attitude positive .
Let's discuss with 8 questions which may comes to your mind often generally.

• How to achieve your aim by Team Work ? 
 टीम वर्क से कैसे हासिल कर सकते हैं लक्ष्य

• Why encouragement is necessary for all ? 
 प्रोत्साहन क्यों जरूरी है ?

• Treat your company/organization as a family 
कम्पनी या एम्प्लॉय को परिवार की तरह समझिये !

• Learn from each and everyone 
 प्रत्येक व्यक्ति से सीखने योग्य बातें ग्रहण कर लेनी चाहिए

• Always be in unity 
 हमेशा एकजुट रहिये

• Distribute your work accordingly to eligibility conditions. 
 योग्यता के अनुरूप काम को बाटें

• Consult with others to achieve aim. 
 लक्ष्य निर्धारण में लें राय

• Difference between team and team work. 
 टीम और टीमवर्क में अंतर


चलिये उदाहरण से समझते है

Make My Trip के चेयरमेन और ग्रुप सीईओ दीप कालरा का कहना है कि लीडरशिप की क्वालिटी अभ्यास से ही बिल्ड हो सकती है। जब आप किसी टीम के साथ मिलकर काम करना शुरू करते हैं तो स्किल्स को सुधारना बहुत जरूरी हो जाता है । आपको लोगों को अपने विजन को समझाना पड़ता है । हाई प्रेशर होने पर भी खुद को Cool रखना पड़ता है । यदि आप एक लीडर हैं तो बुरी से बुरी परिस्थिति में भी आपको आत्मविश्वास से काम लेना होता है तभी आप सफल हो सकते हैं ।



एक टीम लीडर, अपनी टीम के हर सदस्य की फीलिंग्स को समझने का प्रयास करता है और वह एक ऐसी टीम का निर्माण करता है जो बेहतर प्रदर्शन के साथ-साथ लक्ष्य को सहज ही हासिल कर सके.
लीडर की सबसे बड़ी क्वालिटी यही होती है कि वह खुद भी नई चीजें सीखता है और दुसरे व्यक्तियों को भी इसके लिए Motivate करता है । आइये टीम वर्क के कुछ ख़ास बातों को देखते हैं 

प्रोत्साहन जरूरी है 

Appreciation is the Best Medicine.टीम हमेशा बेहतर प्रदर्शन करे ये जरूरी नहीं! कई बार मैनपावर संसाधनों की कमी से टीम में परेशानी हो सकती है । ऐसे में हमेशा टीम के किये गये योगदान की सराहना की जानी चाहिए । उनकी प्रशंसा करके आप उन्हें प्रेरित कर सकते हैं । उनकी प्रशंसा से न सिर्फ वे प्रोत्साहित होंगे बल्कि उन्हें यह अहसास भी होगा कि वे टीम के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं । टीम की मेहनत के बारे में अपने मैनजमेंट के साथ भी जरूर चर्चा करें, उनकी खूबियों की बारे में दिल खोलकर उनकी तारीफ़ करें और हमेशां प्रोत्साहन दें ।

परिवार की तरह समझिये

टीम को अपनी फैमिली की तरह ही समझें और साथ रहने, खाने-पीने मौज-मस्ती के अलावा उनके हर अचीवमेंट पर जश्न भी मनाएं । टीम मेम्बर्स को उनके हर सुख-दुःख में शरिख होना चाहिए । इससे औपचारिकतायें खत्म हो जाएंगी । टीम का हर सदस्य एक-दुसरे के साथ काम करने में सहज महसूस करने लगेगा । अगर वर्कप्लेस पर अच्छा माहौल रहेगा तो, सब मिलजुलकर काम करेंगे तो काम का आउटपुट भी अच्छा ही मिलेगा ।

एक दूसरे से सीखिये

एक टीम में कई तरह के लोग होते हैं । हर व्यक्ति किसी न किसी काम में ज्यादा माहिर होता है । ऐसे में टीम के सदस्यों को एक-दुसरे से सीखने की कोशिश करनी चाहिए । जब तक आप अपने हुनर या क्षमता को विकसित नहीं करेंगे तब तक आप आगे नहीं बढ़ सकते । काम तो आप रोज करते हैं लेकिन यदि अपने अन्दर सीखने की क्षमता विकसित कर ली तो आप महसूस करेंगे कि आप और लोगों से काफी आगे पहुँच चुके हैं । इसका फायदा आपको तुरंत नजर नहीं आएगा लेकिन हर रोज सीखते रहने से इसका लाभ आपको भविष्य में मिलेगा ।



हमेशा एकजुट रहिये 

टीम के लीडर को इस बात का पता होना चाहिए कि सभी सदस्य अपना-अपना फायदा देखने के बजाय टीम के फायदे के लिए काम कर रहे हों । सदस्यों को टीम के लिए नए-नए आईडिया देने के लिए प्रेरित कीजिये । यदि उन्हें टीम में रहकर सफल बनना है तो सभी को “मैं” की जगह “हम” पर जोर देना होगा ।

योग्यता के अनुरूप काम को बाटें 

कई लोग मिलकर एक टीम का निर्माण करते हैं । इसलिए यह बहुत जरूरी है कि हर एक सदस्य की क्षमताओं और योग्यताओं को समझा जाए और उसी के अनुरूप कामों को बांटा जाए । इससे सभी लोग बिना किसी परेशानी के अपना-अपना काम पूरा कर सकेंगे । टीम की प्रोडक्टिविटी तभी बढ़ेगी जब टीम के सभी सदस्य मिलकर अपनी-अपनी योग्यताओं के अनुसार काम को आगे बढ़ाएंगे । 

लक्ष्य निर्धारण में लें राय

टीम बनाने के लिए ये बहुत जरूरी है कि टीम के हर सदस्य को यह बात स्पष्ट रूप से पता होनी चाहिए कि टीम का लक्ष्य क्या है और इसे हासिल करने में उनका क्या रोल है । यदि सदस्य उस लक्ष्य को अपना काम समझकर पूरी इमानदारी के साथ काम करता है तो इससे सभी को फायदा होता है । बड़े लक्ष्यों को छोटे-छोटे टुकड़ों में बांटकर अपनी टीम के सामने रखें ताकि लक्ष्य वही रहे लेकिन उसे हासिल करने के लिए आपके तरीके बदल सकें । छोटे लक्ष्य को जल्दी हासिल किया जा सकता है और छोटे-छोटे लक्ष्य हासिल करके आपकी टीम आत्मविश्वास से भर जाएगी और कब बड़ा लक्ष्य हासिल हो जाएगा पता ही नहीं चलेगा । चीजों को जितना ज्यादा हो सके उतना सिम्पल बनाएं। ताकि टीम बेहतर तरीके से काम कर सके ।

टीम और टीमवर्क में अंतर

लोगों का एक समुदाय जिसमें कई लोग जुड़े होते हैं टीम है । लेकिन वही लोग एक ख़ास लक्ष्य के साथ उस आर्गेनाइजेशन को आगे बढ़ाने के लिए मिलकर काम कर रहे होते हैं वही टीमवर्क है । एक टीम में टीमवर्क लाना होता है तभी सफलता हासिल हो सकती है । यदि आप बस एक टीम का निर्माण करके उसे छोड़ देते हैं तो असफलता ही आपके हाथ लगेगी । आपको टीमवर्क की Importance समझनी होगी और आगे बढ़ना होगा । मिल-जुलकर काम करने, काम को बांटने और अपनी योग्यताओं के अनुसार सब लोगों को साथ में लेकर जब आप आगे बढ़ते हैं तो आप आगे ही बढ़ते चले जाते हैं । अपनी टीम में टीमवर्क लाइय, टीम बनाने मात्र से कुछ नहीं होने वाला… अपनी टीम को पावरफुल बनाना होगा जो कि टीमवर्क से ही संभव है ।

अगर ये बातें आपको पसंद आई हो तो शेयर जरूर करे