प्रसन्न मन (Happy Heart)-

प्रसन्न मन-जब आपका मन प्रसन्न होता है तब आपके अंदर एक नई Energy का उत्पादन कई गुना बढ़ जाता है जिसे आप सही दिशा में प्रयोग करके अधिक सफलता प्राप्त कर सकते हैं 
1 साल पहले मैंने तीन सन्यासियों को देखा लेकिन वह कहां से आए थे कोई नहीं जानता था लोग उन्हें अजीब आदमी समझते थे मैंने उनसे पूछा तुम कौन हो तो वह एक दूसरे को देख कर हंसने लगे तब मैंने उनसे यह प्रश्न द्वारा पूछा तो तीनों जोर-जोर से हंसने लगे मैं भी उनके साथ हंसने लगा धीरे-धीरे उनकी आवाज पूरे माहौल में फैल गई परंतु मुझे पता नहीं चला था कि तीनों हंसते वह मशहूर थे मैंने पूछा तुम मेरे सवाल पूछते क्यों हो इतनी गंभीरता से सवाल पूछते हो कि तुम्हें दिया गया कोई भी जवाब हमारे लिए खतरनाक साबित हो सकता है क्योंकि तुम हमारे हर जवाब को गंभीरता से लोगे दूसरा सन्यासी बोला लेकिन हम लोग जिंदगी को गंभीर नहीं समझते 
क्योंकि गंभीरता का मतलब है कि इस संसार में कुछ सार है लेकिन हमें तो निसार नजर आता है हमें तो यह केवल खेल नज़र आता है लेकिन हमें आप जैसे लोगों से दिक्कत होती है जो जीवन को गंभीर समझते हैं इसलिए जिंदगी के हसीन पल को ऐसे ही गंभीरता में रहते हैं हंसते रहते हैं ऊर्जा का संचार हो ताकि हम अपने जीवन के कठिन से कठिन में आसानी से ले सकें तीसरे सन्यासी की बात में दम था क्योंकि हंसते-हंसते बड़े से बड़ा काम आसानी से कर सकते हैं  

यही कारण है कि जेट एयरवेज के फाउंडर और चेयरमैन नरेश गोयल ने हंसने के सिद्धांत को अपनी सफलता का गुरु मंत्र बना रखा है इस खुशमिजाज सब से मिलकर लगता नहीं कि कामयाबी की उड़ान भरने से पहले उसने कभी उबड़ खाबड़ कोई जंगल पार किया होगा जबकि एडिशन के रनवे पर चमचमने से पहले उन्हें स्कूल जाने के लिए मीलों दूर पैदल चलना पड़ा था 
तब उन्हें अपनी पहली नौकरी में ₹300 महीने मिलते थे तब वह एयरलाइंस पीछा करते थे लेकिन उसी नौकरी में उन्होंने विजन के जरिए ऐसी उड़ान भरी थी डोमेस्टिक एयरलाइंस का आकाश ही बदल दिया 

ऐसे लाखों-करोड़ों लोग हैं जिन्होंने अपने मिशन और विजन को क्लियर करके एक अपने लक्ष्य को बना करके ऊंची शिखर पर पहुंचे हैं जो पहले कुछ नहीं थे लेकिन वह अपने लक्ष्य पर अडिग रहे और सफलताओं को प्राप्त किया इसलिए हमें अपने जीवन में अपने लक्ष्य को बनाना होगा और बिल्कुल सीधी नजर से उसी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए हर संभव प्रयास करने लगन लगानी होगी तब जाकर हमें वह मुकाम हासिल होगा

इसलिए हमारे जीवन में होना बहुत जरूरी है  अगर हम कोई भी कार्य खुशी मन से करते हैं तो निसंदेह उस कार्य कार्य में सफलता मिलती है और हम बहुत आगे बढ़ते हैं क्योंकि जिस काम को करने में हमारा मन नहीं मानता उस काम में कभी भी हमें सफलता नहीं प्राप्त हो सकती 

इसीलिए हंसते रहिए मुस्कुराते रहिए और इस इस खुशनुमा जीवन को एक बेहतरीन तरीके से जीते रहिए